हैवान बने डॉक्टर, प्रसव के दौरान गर्भवती को पीटा, जन्म लेते ही बच्चे की मौत

606
खबर शेयर करें -

न्यूज जंक्शन 24, अल्मोड़ा। उत्तराखंड की स्वास्थ्य व्यवस्था बुरी तरह बदहाल हो चुकी है। अभी तक गर्भवतियों को अस्पताल पहुंचने के लिए मशक्कत करनी पड़ रही थी, मगर अब एक गर्भवती अस्पताल पहुंची तो वहां डॉक्टरों ने उसकी पिटाई कर दी (doctor beat up the pregnant), जिससे बच्चे को जन्म देते ही नवजात की मौत हो गई। प्रसूता का आरोप है कि डाॅक्टरों ने उसके पेट पर भी हमला किया। ये घटना सरकारी अस्पताल की है।

बागेश्वर जिले के ग्राम गैरीगाड़ काफलीगेर निवासी ख्याली राम और उनकी पत्नी कमला लोहनी प्रसव पीड़ा होने पर अपनी बहू पूजा लोहनी को पीएचसी ताकुला लेकर आए थे, जहां देर रात पूजा ने बच्चे को जन्म दिया। इसके बाद डॉक्टरों ने जच्चा बच्चा दोनों को हायर सेंटर रेफर कर दिया। परिजन आधी रात में एंबुलेंस के माध्यम से दोनों को अल्मोड़ा महिला अस्पताल लेकर पहुंचे, जहां चिकित्सकों ने नवजात को मृत घोषित कर दिया।

यह भी पढ़ें 👉  ट्रैक्टर और कार में आमने-सामने टक्कर, युवक की मौत

पीड़िता व उसके परिजनों ने ताकुला पीएचसी के डॉक्टरों पर इलाज में लापरवाही का आरोप लगाया है। पीड़िता का आरोप है कि प्रसव से पहले डॉक्टरों ने उसके साथ मारपीट की। महिला ने बताया कि डाक्टर और स्वास्थ्य कार्मिकों ने प्रसव के लिए उसे एक वार्ड में बंद कर दिया। प्रसव के दौरान उसे असहनीय पीड़ा होने लगी। पीड़ा बर्दाश्त से बाहर होने पर वह खुद को रेफर करने की बात कहने लगी। इस पर डाक्टरों और स्वास्थ्य कार्मिकों ने उसकी पिटाई कर दी (doctor beat up the pregnant)। उसके पेट में भी जोर से प्रहार किया। रात में करीब 11 बजे महिला ने बेटे को जन्म दिया। लेकिन हालत बिगड़ते ही उसे हायर सेंटर के लिए रेफर कर दिया गया।

यह भी पढ़ें 👉  महिला से दुराचार कर बना ली वीडियो, फिर ब्लैकमेल कर मजबूर करता रहा आरोपी

वही, पीड़िता के ससुर ख्याली राम ने नवजात की मौत के लिए डॉक्टरों को जिम्मेदार ठहराया है। घटना की जानकारी के बाद जिला विधिक सेवा प्राधिकरण की टीम ने सोमवार को महिला अस्तपाल पहुंच और पीड़िता व उसके परिजनों से मामले की जानकारी ली। इस घटना के बाद पीड़िता व उसके परिजन डरे सहमे हुए हैं। फिलहाल पीड़ित पक्ष की ओर से पुलिस में तहरीर नहीं सौंपी गई है। इधर मामले में महिला अस्पताल की प्रभारी सीएमएस डॉ प्रीति पंत कुछ कहने से इन्कार कर दिया।

से ही लेटेस्ट व रोचक खबरें तुरंत अपने फोन पर पाने के लिए हमसे जुड़ें

हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें।

हमारे यूट्यब चैनल से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें।

यह भी पढ़ें 👉  बस और ट्रक की भिड़ंत में 20 छात्र घायल, मुख्यमंत्री ने जाना हाल चाल

हमारे टेलीग्राम ग्रुप से जुड़ने के लिए क्लिक करें।

हमारे फेसबुक ग्रुप से जुड़ने के लिए क्लिक करें।