मष्तिष्क संबंधी बड़ी बीमारियों का इलाज अब बरेली में ही संभव

357
खबर शेयर करें -

बरेली। दिमाग की बीमारी के बारे में जानकारी न होने की वजह से लोग उचित इलाज नहीं करवा पाते हैं। महानगरों में जाकर बड़े संस्थानों में धक्के खाने पड़ते हैं लेकिन हर किसी को पैसे के अभाव में वह इलाज समय पर नहीं मिल पाता जो उन्हें मिलना चाहिए।


कई बार तो यह डायग्नोज ही नहीं हो पाता कि किसी को दिमाग संबंधी बीमारी भी है। बीमारी कुछ होती है और इलाज किसी और बीमारी का चल रहा होता है। ऐसे में जब मरीज को यह पता नहीं चल पाता और वो बाहर टेस्ट करवाने जाता है, तब पता चलता है कि छोटी सी बीमारी का दिमागी ऑपरेशन करना पड़ेगा। उदाहरण के तौर पर यदि न्यूरोसिस्टो सरकोसिस(दिमाग में कीड़े हो जाना) का शुरुआती दौर में पता चल जाए तो दवा से इलाज संभव है, लेकिन देर से पता चलने पर दिमाग का ऑपरेशन ही एक मात्र विकल्प बचता है, जो कि उचित नहीं है। 

कई ऐसी बीमारियां हैं जो उचित मार्गदर्शन न होने के कारण बड़ी बन जाती हैं। जैसे मस्तिष्क आघात या लकवा। इसके बारे में जैसे ही पता चलता है लोग डाक्टर के पास भागते हैं, लेकिन इलाज के अभाव में अंतत: बड़े शहरों में ही जाना पड़ता है और मरीज को ले जाने में बहुत देर हो जाती है। इसी तरह सिर दर्द, मिर्गी, पीठ व पैर में दर्द, शियाटिका, गर्दन का दर्द, रीढ़ की हड्डी और नसों की बीमारियों का सीधा ताल्लुक दिमाग से है। शरीर की अकड़न और दिमागी बुखार जैसी कई ऐसी बीमारियां हैं जिनका इलाज अब आपके अपने शहर बरेली में हो सकता है। 


यहां मिलेंगे डॉक्टर पता : 35/G रामपुर गार्डन (डॉक्टर रश्मि गोयल अस्पताल), बरेली-243001

किसी भी समय परामर्श लेने के लिए कॉल करें : 8077887673 

डॉक्टर से मिलने का समय : सोमवार से शुक्रवार, सुबह 9 बजे से 1 बजे तक, शाम 6 से 8 बजे तक।

मेरा मानना है कि मैं बरेली शहर के लोगों को इलाज के लिए वे सुविधाएं मुहैया करवाऊं, जिनके लिए वे बाहर भागते हैं। कई बार इस भाग-दौड़ में मरीज की जान पर बन आती है। कोशिश करुंगा कि मैं ऐसे लोगों के जीवन को स्वस्थ करने का एक जरिया बन सकूं। 
डा. मुकेश दुबे, संचालक, शतायु: न्यूरो सेंटर