मायके से ला रहा था पत्नी को, रास्ते में हत्या के बाद पुलिस से बोला-मेरी बीवी किडनैप हो गई

एनजेआर, बरेली। महिला से प्रेम संबंधों के चलते युवक ने अपने दोस्त के साथ पत्नी की गला दबाकर हत्या कर दी। उसका शव तालाब में छुपा दिया। पुलिस से बचने के लिये लूटपाट और पत्नी के अपहरण की सूचना दे दी। जिस पर बरेली से लेकर लखनऊ तक खलबली मची रही। दोपहर बाद पुलिस ने अपहरण और लूट के ड्रामा का खुलासा कर दिया। महिला के शव को तालाब से बरामद कर लिया गया है। हत्या में शामिल महिला के पति उसके दोस्त को गिरफ्तार कर लिया गया है। महिला के पिता की ओर से आरोपी पति समेत आठ लोगों के खिलाफ हत्या, दहेज हत्या में मुकदमा दर्ज किया गया है।

बचेरा गांव के तेजपाल उर्फ विक्की 15 अगस्त को अपने बहनोई के भाई के गांव प्रहलादपुर गया था। वहां से बाइक से पत्नी आरती को लेकर देर रात साढ़े नौ बजे बचेरा के लिए चल दिया। रास्ते में नौहारा हसनपुर और मझगवां गांव के बीच एक वैन में सवार चार-पांच बदमाशों ने चाकू और तमंचों की नोंक पर उसे रोक लिया। उससे 11 सौ रुपए, बाइक छीन ली, पानी में उसे धक्का दे दिया, उसकी पत्नी को वैन में डालकर अपहरण कर ले गये। लूट और अपहरण की सूचना से पुलिस में हड़कंप मच गया। एसपीआरए डा. संसार सिंह और सीओ रामप्रकाश मौके पर पहुंच गए। एसपी देहात ने युवक के परिवार और ससुराल वालों से अलग अलग पूछताछ की। जिसमें पता लगा कि युवक के गांव की शादीशुदा महिला से प्रेम संबंध है। इसकी वजह से उसने पत्नी से एक साल तक संबंध ही नहीं बनाये। पुलिस ने जब उससे कड़ाई से पूछताछ की तो उसने अपने दोस्त मोनू के साथ मिलकर पत्नी आरती की गला दबाकर हत्या करने की बात कबूल कर ली। इसके बाद उसने सुतैरा पुलिया के नीचे से पत्नी आरती की लाश बरामद करवा दी। घटनास्थल के पास प्लास्टिक के खाली पौवे मिले हैं।


48 घंटे पहले रची थी पत्नी की हत्या की साजिश

तेजपाल ने पत्नी आरती की हत्या की साजिश 48 घंटे पहले ही कर ली थी। उसकी हत्या में तेजपाल की प्रेमिका महिला और उसके दोस्त का सीधा हाथ है। तेजपाल पत्नी की हत्या 14 अगस्त को ही कर देता, लेकिन उसकी हिम्मत नहीं हुई और उसे मौका नहीं मिला। इस वजह से बीस मिनट के ससुराल से घर तक के सफर को पूरा करने के लिये उसे पौने तीन घंटे लग गये। उसने आंवला और अलीगंज के तीन बार चक्कर काटे, फोन पर रुक-रुककर पत्नी से अलग जाकर किसी से बात की, लेकिन हत्या नहीं कर पाया। अगले दिन पत्नी को घुमाने का बहाना बनाकर उसे बिशारतगंज लाया। दोस्त मोनू के साथ मिलकर हत्या की साजिश रची, रेकी की। इसके बाद हत्या कर शव को पुलिया के नीचे ठिकाने लगा दिया।
आंवला के गांव कसूमरा के रविन्द्र कुमार शर्मा ने बताया कि उन्होंनें अपनी बेटी आरती की शादी अलीगंज के गांव बचेरा के तेजपाल उर्फ विक्की से पिछले साल की थी। ससुराल में गिर जाने से आरती की हाथ की हड्डी टूट गई। जिस पर तेजपाल उसे कसूमरा छोड़ आया। उसका किसी दूसरी युवती से प्रेम प्रसंग चल रहा है, इसलिए वह आरती से दूरी बनाकर रखता था। उसने आरती से पति पत्नी वाले संबंध नहीं बनाये। वह आरती से अलग सोता था। आरती उनकी इकलौती बेटी थी।

बहन, बहनोई, मां और प्रेमिका को बनाया हत्यारोपी


आरती के पिता की ओर से बिशारतगंज थाने में तेजपाल उर्फ विक्की, मां मिथलेश, प्रेमिका रामश्री के बेटे की पत्नी, बहन पूजा, मीरापुर का रहने वाला उसका पति शिशुपाल, प्रहलादपुर गांव के पूर्व प्रधान बहनोई प्रेमपाल उसकी पत्नी नीलम के खिलाफ हत्या और दहेज हत्या का मुकदमा दर्ज किया गया है।

लखनऊ तक हल्ला, बरेली में दुल्हनें भी लूट ले जाते हैं बदमाश

पुलिस के वायरलेस पर जैसे ही लूट और अपहरण की सूचना दी गई। स्वतंत्रता दिवस के मौके पर लूट और अपहरण की घटना से पुलिस वालों के हाथ पांव फूल गये। लखनऊ डीजीपी आफिस को जब मामले की सूचना दी गई तो लखनऊ वालों ने पूछा कि बरेली के बदमाश इतने दुस्साहसी हो गये हैं कि जेवर और कैश के साथ दुल्हनों को भी लूट ले जाते हैं।

बोला-शारीरिक संबंध बनाने से इनकार करती थी इसलिये कर दी हत्या

पुलिस हिरासत में आरोपी तेजपाल का कहना है कि आरती छह माह से मायके में थी। एक साल पहले उसकी शादी हुई थी। वह उससे शारीरिक संबंध बनाने से इनकार करती थी। हर वक्त मोबाइल पर लगी रहती थी। इस वजह से उसकी हत्या कर दी। उसने गांव की महिला से प्रेम संबंधों की बात को स्वीकार किया है। आरोपी ने हत्या के दौरान प्रेमिका के मोबाइल पर कई बार संपर्क किया था। जिस पर पुलिस को उस पर शक हुआ। पूछताछ में प्रेम संबंधों का खुलासा हो गया।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*