अक्टूबर में क्या कह रही है आपकी राशि…जानिए ज्योतिषाचार्य मंजू जोशी के अनुसार

341
खबर शेयर करें -

न्यूजजंक्शन24, हल्द्वानी :  कुमाऊं की प्रसिद्ध ज्योतिषाचार्य मंजू जोशी कहती हैं कि नवरात्रि का छठा दिन देवी कात्यायनी को समर्पित है। धार्मिक मान्यता अनुसार देवी दुर्गा ने इसी स्वरूप में महिषासुर का वध किया था। देवी भागवत पुराण के अनुसार देवी कात्यायनी की पूर्ण श्रद्धा से पूजा अर्चना करने पर गृहस्थ में सुख शांति एवं विवाह करने की इच्छा रखने वाले स्त्री– पुरुषों के लिए विशेष फल की प्राप्ति होती है। आइए, जानते हैं अक्टूबर माह में देश और दुनिया पर ग्रहों का क्या प्रभाव रहेगा।

अक्टूबर 2022 में राजस्थान, बिहार, पंजाब, मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, उड़ीसा में वायु वेग के साथ अच्छी वर्षा होगी। तापमान में गिरावट से संक्रामक रोग, महामारी फैल सकती है। सर्दी में वृद्धि हो सकती है।

ज्योतिषाचार्य मंजू जोशी के अनुसार माह अक्टूबर में मेष से लेकर मीन तक सितारों की यह रहेगी चाल….

*मेष राशि*–मेष राशि के जातकों के लिए अक्टूबर माह सामान्य फल कारक रहेगा। विद्यार्थियों को अधिक परिश्रम से सफलता मिल सकती है। आय की अपेक्षा व्यय बढ़ने की संभावना। दांपत्य जीवन में तनाव की स्थिति उत्पन्न हो सकती है अतः धैर्य का परिचय दें। कर्ज देने से बचें। व्यापार में सामान्य लाभ प्राप्त करेंगे। संतान पक्ष से शुभ समाचार प्राप्त होगा। स्वास्थ्य सामान्य रहेगा। वाहन सावधानी से चलाएं अन्यथा चोट लगने की संभावना। लाभ हेतु दुर्गा सप्तशती का पाठ करें एवं मंगलवार को हनुमान जी को सिंदूर अर्पित करें।

*वृषभ राशि*–वृषभ राशि के जातकों के लिए अक्टूबर माह शुभ फल कारक रहेगा। नवीन योजनाएं सफल होंगी। सामाजिक यश प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी। पारिवारिक जीवन सुखमय बीतेगा। अविवाहित जातकों के विवाह के योग बन रहे हैं। न्यायालय संबंधी कार्य में सफलता प्राप्त करेंगे। राज पक्ष से लाभ होगा। धार्मिक विषयों पर रुचि बढ़ेगी। स्वास्थ्य उत्तम रहेगा। यात्राएं सफल रहेंगी। लाभ हेतु सूर्य को जल अर्पित करें। आदित्य हृदय स्त्रोत का पाठ करें।

यह भी पढ़ें 👉  दुकान बंद कर घर जा रहा था व्यापारी, रास्ते में बदमाशों ने कर दी फायरिंग, गंभीर

*मिथुन राशि*–मिथुन राशि के जातकों के लिए माह शुभ फल कारक रहेगा। दैनिक जीवन में प्रसन्नता प्राप्त करेंगे। सुख साधनों में वृद्धि होगी। नौकरीपेशा वर्ग में पदोन्नति की संभावना है। माता पिता के साथ सद्भाव बना रहेगा। व्यापार में लाभ प्राप्त करेंगे। व्यापार में निवेश हेतु शुभ समय। क्रोध पर नियंत्रण रखें अन्यथा दांपत्य जीवन में तनाव की स्थिति उत्पन्न हो सकती है। स्वास्थ्य उत्तम रहेगा। व्यापारिक यात्राएं सफल रहेंगी। लाभ हेतु गणेश वंदना करें गणेश जी को दूर्वा अर्पित करें।

*कर्क राशि*–कर्क राशि के जातकों के लिए अक्टूबर माह शुभ फल कारक रहेगा। विद्यार्थी वर्ग को विशेष सफलता प्राप्त होगी। व्यापार में धन लाभ होगा। कार्य क्षेत्र में वृद्धि होगी। मित्रों से सहयोग प्राप्त करेंगे। पारिवारिक जीवन सौहार्दपूर्ण रहेगा। स्वास्थ्य उत्तम रहेगा। घर में मांगलिक कार्य संपन्न हो सकते हैं। वाहन सावधानी से चलाएं। लाभ हेतु रुद्राष्टकम का पाठ करें। शिवजी को जल अर्पित करें।

*सिंह राशि*–सिंह राशि के जातकों के लिए अक्टूबर माह सामान्य फल कारक रहेगा। रुके हुए कार्य संपन्न होंगे। सामाजिक यश प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी। व्यापार में लाभ प्राप्त करेंगे। क्रोध पर नियंत्रण रखें बंधुजनों से विवाद हो सकता है। शत्रुओं पर विजय प्राप्त करेंगे। दांपत्य जीवन में तनाव की स्थिति उत्पन्न हो सकती है। स्वास्थ्य मध्यम रहेगा। वाहन सावधानी से चलाएं। लाभ हेतु आदित्य हृदय स्त्रोत का पाठ करें रविवार को गुड़ दान करें।

*कन्या राशि*–कन्या राशि के जातकों के लिए माह शुभ फल कारक रहेगा। व्यापार में लाभ प्राप्त करेंगे। दैनिक जीवन में प्रसन्नता प्राप्त होगी। वैवाहिक जीवन सुखमय रहेगा। व्यवसाय में लाभ प्राप्त करेंगे। नए व्यापार में निवेश करने हेतु शुभ समय। प्रतियोगी परीक्षाओं में सफलता प्राप्त करेंगे। नौकरीपेशा वर्ग की पदोन्नति की संभावना। स्वास्थ्य उत्तम रहेगा। शत्रुओं पर विजय प्राप्त करेंगे। यात्राएं सफल रहेंगी। लाभ हेतु गणेश आराधना करें। गणेश जी को दूर्वा अर्पित करें। एवं हरा चारा दान करें।

यह भी पढ़ें 👉  नाकाम हुआ मंसूबा- एमडी परीक्षा में नकल कराते पांच गिरफ्तार, दो डॉक्टर भी शामिल, बनाया गया था ग्रुप

*तुला राशि*–तुला राशि के जातकों के लिए अक्टूबर माह सामान्य फल कारक रहेगा। व्यापारिक मामलों में अधिक परिश्रम एवं भागदौड़ करनी पड़ सकती है। आय की अपेक्षा व्यय अधिक होंगे। मित्रों से व्यर्थ वाद-विवाद से बचें। पारिवारिक जीवन सुखमय रहेगा। संतान पक्ष से सुखद समाचार प्राप्त करें। शारीरिक कष्ट हो सकता है। वाहन सावधानी से चलाएं अन्यथा दुर्घटना होने की संभावना। लाभ हेतु रुद्राष्टकम का पाठ करें। शिवजी को जल अर्पित करें।

*वृश्चिक राशि*–वृश्चिक राशि के जातकों के लिए माह शुभ फल कारक रहेगा। रुके हुए कार्य संपन्न होंगे। संतान पक्ष से प्रसन्नता प्राप्त होगी। व्यापार में लाभ प्राप्त करेंगे। पारिवारिक जीवन सौहार्दपूर्ण रहेगा। स्वास्थ्य उत्तम रहेगा। सामाजिक प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी। राज पक्ष से लाभ प्राप्त कर सकते हैं। प्रतियोगी परीक्षा में सफलता प्राप्त करेंगे। धार्मिक कार्यों में रुचि बढ़ेगी। धार्मिक यात्राएं हो सकती हैं। लाभ हेतु प्रतिदिन हनुमान चालीसा का पाठ करें। मंगलवार को गाय को गुड़ और रोटी खिलाएं।

*धनु राशि* – धनु राशि के जातकों के लिए अक्टूबर माह शुभ फल कारक रहेगा। सामाजिक यश प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी। कार्यक्षेत्र का विस्तार होगा। व्यापार में लाभ प्राप्त करेंगे। पारिवारिक जीवन सुखद रहेगा। माता-पिता से संबंध मधुर रहेंगे। स्वास्थ्य उत्तम रहेगा। घर में मांगलिक कार्य संपन्न हो सकते हैं। दांपत्य जीवन सुखमय बीतेगा। यात्राएं सफल रहेंगी। लाभ हेतु विष्णु सहस्त्रनाम का पाठ करें गुरुजी को पीली वस्तुओं का दान करें।

*मकर राशि* – मकर राशि के जातकों के लिए अक्टूबर माह शुभ फल कारक रहेगा। परिवर्तनकारी अवसरों की प्राप्ति होगी। कार्य क्षेत्र में प्रगति प्राप्त करेंगे। व्यापार में लाभ होगा। सामाजिक यश प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी। संतान पक्ष से प्रसन्नता प्राप्त होगी। स्वास्थ्य उत्तम रहेगा। वाहन सावधानी से चलाएं। शत्रु प्रबल होंगे। लाभ हेतु सुंदरकांड का पाठ करें। शनि मंदिर में शनिवार को दीपक प्रज्वलित करें।

यह भी पढ़ें 👉  ट्रक और मैक्स में हुई टक्कर, बच्ची समेत 11 यात्री घायल

*कुंभ राशि*–कुंभ राशि के जातकों के लिए माह सामान्य फल कारक रहेगा। भूमि, भवन के क्रय-विक्रय से लाभ प्राप्त करेंगे। पारिवारिक जीवन सुखमय बीतेगा। सामाजिक यश प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी। व्यापारिक मामलों में व्यर्थ भ्रमण की स्थिति उत्पन्न होगी। प्रतियोगी परीक्षाओं में सफलता प्राप्त करेंगे। वैवाहिक जीवन सुखमय बीतेगा। अविवाहित जातकों का विवाह के प्रबल योग। स्वास्थ्य मध्यम रहेगा उदर विकार हो सकता है। यात्राएं सफल रहेंगी। लाभ हेतु दुर्गा सप्तशती का पाठ करें। मंगलवार को हनुमान जी को सिंदूर अर्पित करें।

*मीन राशि*–मीन राशि के जातकों के लिए अक्टूबर माह शुभ फल कारक रहेगा। कारोबार में उन्नति एवं लाभ प्राप्त करेंगे। माता-पिता व संतान को सुख प्राप्त होगा। सुख सुविधाओं में वृद्धि होगी। पारिवारिक जीवन सौहार्दपूर्ण रहेगा। समकक्ष कर्मचारियों से विवाद की स्थिति उत्पन्न हो सकती है अतः वाणी पर नियंत्रण रखें। नेत्र एवं उदर विकार हो सकता है। धार्मिक यात्राएं सफल रहेंगी लाभ हेतु रुद्राष्टकम का पाठ करें शिवजी को जल अर्पित करें।