20.5 C
New York
Saturday, October 23, 2021

Buy now

Passing Out Parade: भारतीय सेना से जुड़ी 341 युवा अफसरों की टोली, देश पर मर-मिटने की खाई कसम

देहरादून। भारतीय सेना को शनिवार को 341 युवा अफसर मिल गए। भारतीय सैन्य अकादमी में हुए पासिंग आउट परेड में अंतिम पग भरने के बाद युवा अफसरों की टोली भारतीय सेना का हिस्सा बन गई। कोरोना संक्रमण के खतरे को देखते हुए इस बार भी परेड सादगी से आयोजित हुई।

बारिश की वजह से आज शनिवार को पासिंग आउट परेड दो घंटे की देरी से शुरू हुई। ऐतिहासिक चेटवुड भवन के सामने ड्रिल स्क्वायर पर परेड शुरू हुई। डिप्टी कमांडेंट जगजीत सिंह ने परेड की सलामी ली। कमांडेंट हरिंदर सिंह ने परेड की सलामी ली। जिसके बाद सेना के दक्षिण-पश्चिमी कमान के जनरल ऑफिसर कमांडिंग ले. जनरल आरपी सिंह ने बतौर रिव्यूइंग ऑफिसर परेड का निरीक्षण कर पास जेंटलमैन कैडेट्स से सलामी ली।

यह भी पढें: डर या आस्था : यहां ग्रामीणों ने ‘कोरोना माता’ के नाम से मंदिर ही बना दिया, इस तरह हो रही इनकी आरती। पढ़िये दिलचस्प कारनामा

यह भी पढें: Uttrakhand Big News : प्रदेश की सभी निजी लैबों में कराई गई कोरोना की जांच पर आंच, सरकार ने दिया यह बड़ा आदेश। मचा हड़कंप, जानिए क्यों

पिछली बार की तरह इस बार भी कैडेट्स के परिजन पासिंग आउट परेड नहीं देख पाए। परेड के उपरांत आयोजित पीपिंग व ओथ सेरेमनी के बाद 425 जेंटलमैन कैडेट्स बतौर लेफ्टिनेंट देश-विदेश की सेना का अभिन्न अंग बन गए। इनमें 341 युवा सैन्य अधिकारी भारतीय थलसेना को मिले, जबकि, 84 युवा सैन्य अधिकारी नौ मित्र देशों अफगानिस्तान, तजाकिस्तान, भूटान, मॉरीशस, श्रीलंका, वियतनाम, टोंगा, मालदीव और किर्गिस्तान की सेना का अभिन्न अंग बने। इसके बाद देहरादून स्थित प्रतिष्ठित भारतीय सैन्य अकादमी के नाम देश-विदेश की सेना को 62 हजार 987 युवा सैन्य अधिकारी देने का गौरव जुड़ गया है। इनमें मित्र देशों को मिले 2587 सैन्य अधिकारी भी शामिल हैं।

ये हैं पदक विजेता

स्वार्ड आफ आन/रजत पदकः मुकेश कुमार सीकर राजस्थान 9971925509
स्वर्ण पदकः दीपक सिंह अल्मोड़ा उत्तराखंड
कांस्य पदकः लवनीत सिंह मोगा पंजाब 8837783900
रजत पदक (टीजी) : दक्ष कुमार पंत पुणे महाराष्ट्र मूल अल्मोड़ा

कोरोना का दिखा असर

कोरोना संकट के चलते पासिंग आउट परेड में तमाम स्तर पर एहतियात बरती गई। न केवल दर्शक दीर्घा बल्कि परेड के दौरान भी शारीरिक दूरी के नियमों का पूरा पालन किया गया। हर मार्चिंग दस्ते में अमूमन दस कैडेट एक लाइन में होते हैं, पर इनकी संख्या आठ रखी गई। ताकि कैडेटों के बीच रहने वाली 0.5 मीटर की दूरी के बजाए दो मीटर की दूरी बनी रहे। इसके अलावा जेंटलमैन कैडेटों के साथ ही सभी सैन्य अधिकारी भी मास्क पहने रहे।

यह भी पढें: Uttrakhand Board : 12वीं की परीक्षा को लेकर सरकार का बड़ा फैसला, शिक्षा सचिव ने जारी किया यह आदेश

इन राज्यों के इतने कैडेट बने अफसर

उत्तर प्रदेश  –  66

हरियाणा  –  38

उत्तराखंड –   37

पंजाब –   32

बिहार    29

जम्मू कश्मीर   – 18

दिल्ली  –  18

महाराष्ट्  –  16

हिमाचल प्रदेश  –  16

राजस्थान  –  16

मध्य प्रदेश –   14

पश्चिम बंगाल   – 10

केरल  –  07

कर्नाटक –   07

झारखंड  –  05

मणिपुर   – 05

तेलंगाना   – 02

गुजरात   – 01

गोवा  –  01

उड़ीसा –   01

तमिलनाडु  –  01

आंध्र प्रदेश  –  01

लद्दाख   – 01

चंडीगढ़   – 01

असम  –  01

मिजोरम –   01

 

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest Articles