पिथौरागढ़ के जवान की इम्फाल में मौत, आज यहां हुआ अंतिम संस्कार। जानिए कैसे हुई मौत

 

पिथौरागढ़। गंगोलीहाट तहसील मुख्यालय के नजदीकी सिमलकोट गांव निवासी असम राइफल के जवान महेंद्र सिंह मेहता का लंबे उपचार के बाद निधन हो गया है। शनिवार को मृतक जवान का शव उनके पैतृक गांव लाया गया। इसके बाद स्थानीय रामेश्वर घाट में उनका सैन्य सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया। जवान की मौत से परिजनों में कोहराम मचा है।
सिमलकोट निवासी 36 वर्षीय महेंद्र सिंह मेहता, पुत्र बहादुर सिंह मेहता 15 असम राइफल्स इंफाल में तैनात थे। विगत वर्ष 28 दिसंबर को ड्यूटी के दौरान उनका पैर फिसल गया। जिससे वह गंभीर रू प से घायल हो गए। उनके सिर पर गहरी चोट आई। इसके बाद उनका इंफाल में ही सेना अस्पताल में उपचार चल रहा था। इस बीच बीते चार मार्च को उन्होंने उपचार के दौरान दम तोड़ दिया। इंफाल में 15 असम राइफल के कर्नल परीक्षित दहिया व सुबेदार मेजर जसवीर सिंह ने मृतक जवान को सलामी दी। इसके बाद उनके शव को हैलीकॉप्टर से देहरादून लाया गया। देहरादून से शनिवार की सुबह जवान का पार्थिव शरीर उनके पैतृक गांव लाया गया। जवान का शव घर पहुंचते परिजनों में कोहराम मच गया। वृद्ध मां भागुली देवी व पत्नी ममता मेहता बेसुध हो गए। सेना के जवानों ने परिजनों को ढांढस बंधाया। तहसीलदार दिनेश कुटोला व राजस्व उपनिरीक्षक विजय शाह ने जवान के घर पहुंचकर उन्हें श्रद्धांजलि दी। इसके बाद जवान का शव अंत्येष्टि के लिए स्थानीय रामेश्वर घाट लाया गया। यहां 6 गढ़वाल राइफल के सुबेदार अनिल भंडारी के नेतृत्व में जवानों ने मृतक जवान को अंतिम सलामी दी। इसके बाद मृतक जवान के चाचा त्रिलोक सिंह मेहता व बड़े भाई शंकर सिंह चिता को मुखाग्नि दी। इस मौके पर थानाध्यक्ष दिनेश बल्लभ, एसआइ प्रकाश पांडे, राजस्व उपनिरीक्षक संजय पंवार, कांस्टेबल राकेश बोरा समेत बड़ी संख्या में व्यापारी भी मौजूद रहे। मृतक जवान के दो बच्चे हैं। पुत्री 10 वर्षीय व अर्पित सात वर्ष का है। जवान की मौत से परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*