Online Fraud :पुलिस ने लौटाए ऑनलाइन ठगी के आठ लाख रुपये, आप के साथ हो ऐसा तो ऐसे वापस पाएं अपनी रकम

हल्द्वानी। ऑनलाइन ट्रांजेक्शन बढ़ने के बाद साइबर ठगी के मामले भी तेजी से बढ़े हैं। रोजाना कोई न कोई इन ठगों का शिकार बन रहा है। हालांकि ठगी के बाद कुछ लोग तुरंत एक्शन लेते हुए पुलिस के पास पहुंच जा रहे हैं, जिससे उनकी मेहनत की कमाई बच जा रही है। अगर आप भी कभी इसी तरह ठगी के शिकार बन जाएं तो तुरंत पुलिस से शिकायत कर अपनी रकम वापस पा सकते हैं। हल्द्वानी के एक युवक के साथ ऐसा ही हुआ। साइबर ठगों ने उसकी आठ लाख की रकम हड़प ली थी, जिसे पुलिस ने तत्काल कार्रवाई करते हुए उसकी पूरी रकम उसके खाते में वापस ट्रांसफर करा दी।

कालाढूंगी के बिदरामपुर चकलुआ निवासी सुरेश चंद्र भट्ट के साथ ठगी की घटना हुई थी। उसका कहना है कि नौकरी दिलाने वाले एक पोर्टल पर उन्होंने पूर्व में पंजीकरण किया था, जिस पर सर्विस उपलब्ध न कराने के कारण उनके मोबाइल पर पैसा रिफंड करने के लिए फोन आया। ऐसे में युवक की मेल आईडी पर एक लिंक भेजा गया, जिस पर 10 रुपये का पेमेंट करने के लिए कहा गया। युवक ने डेबिट कार्ड से 10 रुपये भेजे गए लिंक के जरिए कर दिया। इतना करते ही सुरेश के पहले खाते से तीन लाख व दूसरे खाते से पांच लाख निकाल लिए गए।

इसकी शिकायत उन्होंने कालाढूंगी थाने में दी, जिसके बाद साइबर सेल की टीम ने कार्रवाई करते हुए वादी के ट्रांजेक्शन डिटेल लेकर बैंक से तत्काल पत्राचार किया। जिसके बाद सबसे पहले वादी के पहले खाते में तीन लाख रुपए का ट्रांजैक्शन रुकवाया गया। उसके बाद शेष धनराशि का ट्रांजेक्शन भी रुकवा दिया गया। साइबर सेल का कहना है कि अभियुक्तों की लोकेशन की पुष्टि कर ली गई है। शीघ्र ही साइबर ठगों के गिरोह को गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

ठगी हो तो इस नंबर 1171 200003 पर दें सूचना

साइबर सेल प्रभारी इंस्पेक्टर सुधीर कुमार ने कहा कि किसी भी अज्ञात व्यक्ति के कॉल और मैसेज से सावधान रहें। किसी को भी अपना पासवर्ड, ओटीपी, सीवीवी शेयर न करें। अनजान लिंक, ऑनलाइन जॉब ऑफर से संबंधित लिंक पर क्लिक न करें। अनजान क्यूआर कोड कभी भी स्कैन न करें। जागरूक बनें और अन्य अन्य व्यक्तियों को भी जागरूक करें। यदि कोई भी व्यक्ति ठगी का शिकार होता है तो वह तत्काल नजदीकी थाना व साइबर सेल के मोबाइल नंबर 1171 200003 पर सूचना दें।

 

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*