spot_img

नवजात बच्चों के लिए ट्रेन में मिलेगी अलग से मुफ्त सीट, रेलवे ने किया यह खास इंतजाम

न्यूज जंक्शन 24, लखनऊ। छोटे बच्चों के साथ ट्रेन का सफर आसान नहीं होता है। सोते समय दिक्कत सबसे ज्यादा होती है। बच्चे को लेकर एक सीट पर सोने के दौरान अक्सर ही उनके गिरने का डर बना रहता है। रेलवे ने इस समस्या को भांपते हुए एक खास इंतजाम (separate free seat in the train for newborn children) शुरू किया है। हालांकि यह इंतजाम अभी पायलट प्रोजेक्ट पर है, जिसके सफल होने पर अन्य ट्रेनों में यह सुविधा शुरू की जाएगी।

यह पहल लखनऊ और नई दिल्ली के बीच चलने वाली लखनऊ मेल (Lucknow Mail Train) में की गई है। इस ट्रेन में रेलवे ने बच्चों के लिए अलग से सीट का इंतजाम किया है। एक सीट के साथ बच्चों की छोटी सीट (Baby Seat) जोड़कर उसके अलग लेटने का जुगाड़ किया गया है। फिलहाल यह पहल पायलट प्रोजेक्ट के तहत शुरू किया गया है। एक कोच में ऐसी दो सीटें (separate free seat in the train for newborn children) लगाई गई है।

लखनऊ मेल के एसी थर्ड के B-4 कोच में सीट नंबर 12 और 60 को स्पेशल डिजाइन किया गया है। इन दोनों सीटों से एक छोटी सीट को जोड़ा गया है। दिन के वक्त इस बेबी सीट को फोल्ड किया जा सकता है। इसमें एक रेलिंग भी लगी है, जिससे कोई बच्चा सीट से गिर न सके। फिलहाल लखनऊ मेल में प्रयोग के तौर पर ऐसी दो सीटें (separate free seat in the train for newborn children) लगाई गई हैं।

उत्तर रेलवे (Northern railway) से मुख्य जनसम्पर्क अधिकारी (CPRO) दीपक कुमार ने बताया कि इस सीट (separate free seat in the train for newborn children) के बारे में फीडबैक लिया जा रहा है। फीडबैक के आधार पर ये तय किया जाएगा कि और कितनी सीटें बढ़ानी है या नहीं। बेहतर फीडबैक के आधार पर यदि भविष्य में सीटें बढ़ाई जाएंगी तो इसकी अलग से बुकिंग की ऑनलाइन व्यवस्था भी की जाएगी। मदर्स डे के अवसर पर इसे शुरू किया गया है।

से ही लेटेस्ट व रोचक खबरें तुरंत अपने फोन पर पाने के लिए हमसे जुड़ें

हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें।

हमारे यूट्यब चैनल से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें।

हमारे टेलीग्राम ग्रुप से जुड़ने के लिए क्लिक करें।

हमारे फेसबुक ग्रुप से जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest Articles

error: Content is protected !!