14.9 C
New York
Wednesday, October 20, 2021

Buy now

Uttrakhand big news : उत्तराखंड में शिक्षिका की हत्या, जंगल में ले जाकर शव को पेट्रोल डालकर जलाया। क्यों हुआ ऐसा, पढ़िये सनसनीखेज घटना

देहरादून: देहरादून में एक शिक्षका की उसके प्रेमी ने ही हत्या के बाद शव जंगल में ले जाकर जला दिया। इधर, परिजनों की दो माह तक युवती से जब कोई बात नहीं हुई तो उन्होंने युवती के दोस्त को फोन लगाकर बेटी से बात न होने के बारे में पूछा। लड़की के दोस्त के जवाब ने पूरा मामला खोल दिया। उसने परिजनों को बताया कि आपकी लड़की छत से गिर गई, जिसमें उसकी मौत हो गई। मौत के बाद उसने उनकी बेटी का दाह-संस्कार भी कर दिया है। बस, इसी जवाब से परिजनों को शक हुआ और उन्होंने पुलिस को सारी जानकारी से अवगत कराया। जिसके बाद पुलिस ने लड़के को गिरफ्तार कर सख्ती से पूछा तो लड़के ने हत्या की बात कबूल कर ली। युवती बंगाल की रहने वाली थी और देहरादून में एक निजी संस्थान में पढ़ाती थी। पुलिस ने लड़के पर हत्या का मुकदमा दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया है।

पुलिस ने बताया कि 25 जून को हलधर मुखर्जी (निवासी छोरा अस्पताल, बहला वद्र्धमान, बंगाल) ने एक शिकायती प्रार्थना पत्र दिया। इसमें बताया कि उनकी लड़की निवेदिता मुखर्जी पहले दिल्ली में नौकरी करती थी। बीते आठ माह से वह देहरादून के एक निजी संस्थान में पढ़ा रही थी। अक्टूबर 2020 में वह फेसबुक के जरिये वह देहरादून में मैटीरियल सप्लायर अंकित चौधरी के संपर्क में आई। अंकित मूलरूप से फंदपुरी गांव (सहारनपुर उत्तर प्रदेश) का रहने वाला है, लेकिन लंबे समय से देहरादून में ही रह रहा है। हलधर मुखर्जी के अनुसार दोनों विवाह करना चाहते थे।

पुलिस के अनुसार निवेदिता की अपनी मां से अंतिम बार बात 28 अप्रैल को फोन पर बात हुई थी। इसके बाद काफी कोशिश के बाद भी संपर्क नहीं हो पाया। निवेदिता के स्वजन अंकित कुमार से फोन पर संपर्क करने की कोशिश करते रहे, लेकिन उसने फोन नहीं उठाया। बाद में अंकित से फेसबुक पर चैट की गई। चैटिंग के दौरान उसने बताया कि निवेदिता की फ्लैट से गिरने से मृत्यु हो गई है और उसने अंतिम संस्कार भी कर दिया है।

राजपुर थाने के एसओ राकेश शाह ने बताया कि 26 जून को अंकित चौधरी से पूछताछ की गई। आरोपित ने बताया कि निवेदिता पेइंग गेस्ट थी। 24 अप्रैल को वह उसी के साथ रहने आ गई। 28 अप्रैल की रात दोनों के बीच किसी बात पर झगड़ा हो गया। इस दौरान वह बालकनी की ग्रिल पर बैठी थी तो अंकित ने उसे धक्का दे दिया। इससे उसकी मौत हो गई। अंकित ने बताया कि इससे वह घबरा गया और शव को ठिकाने लगाने की सोचने लगा। सुबह चार बजे उसने शव अपनी कार की डिक्की में रखा और मसूरी जाने वाली सड़क पर निकल गया। एक जगह जंगल में सुनसान स्थान पर कार का पेट्रोल निकाल शव को जला दिया। इसके बाद अपने घर लौट आया। रविवार को अंकित की निशानदेही पर पुलिस ने निवेदिता का अधजला शव भी बरामद कर लिया।

खबरों से रहें हर पल अपडेट :

हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें।

हमारे टेलीग्राम ग्रुप से जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest Articles