spot_img

चारधाम के लिए बढ़ाई श्रद्धालुओं की संख्या, सीएम के निर्देश अब इतने यात्री एक दिन में कर सकेंगे दर्शन

न्यूज जंक्शन 25, देहरादून। प्रदेश सरकार ने चारों धामों में आने वाले प्रतिदिन के हिसाब से तीर्थयात्रियों की अधिकतम संख्या एक-एक हजार बढ़ा दी है (Number of devotees increased for Chardham)। बदरीनाथ में अब एक दिन में 16 हजार, केदारनाथ में 13 हजार, गंगोत्री में आठ हजार और यमुनोत्री में पांच हजार यात्री (Number of devotees increased for Chardham) दर्शन कर सकेंगे।

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के निर्देश पर यात्रा सीजन के पहले 45 दिन के लिए सरकार ने यह व्यवस्था की गई है। इस संबंध में पूर्व के शासनादेश में आंशिक संशोधन कर नया शासनादेश जारी किया गया है। संशोधित शासनादेश के अनुसार तीर्थ यात्रियों की सुविधा के दृष्टिगत यह संख्या (Number of devotees increased for Chardham) निर्धारित की गई है।

चारधाम यात्रा तीन मई से शुरू हुई थी, जिसके बाद से लगातार तीर्थयात्रियों की संख्या में तेजी से वृद्धि हो रही है। संख्या निर्धारित होने से कई श्रद्धालुओं को दर्शन करने के लिए कई दिनों का लंबा इतंजार करना पड़ रहा था। इसे देखते हुए मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने तीर्थयात्रियों की संख्या बढ़ाने (Number of devotees increased for Chardham) का निर्णय लिया है। उनके आदेश के बाद चारधाम यात्रा में आने वाले श्रद्धालुओं प्रतिदिन की पंजीकरण क्षमता एक-एक हजार बढ़ाने का निर्णय लिया है।

अभी तक बदरीनाथ में 15000, केदारनाथ में 12000, गंगोत्री में 7000 और यमुनोत्री में 4000 यात्रियों का प्रतिदिन पंजीकरण कराने के व्यवस्था थी। अब नए आदेश के बाद बदरीनाथ में अब एक दिन में 16 हजार, केदारनाथ में 13 हजार, गंगोत्री में आठ हजार और यमुनोत्री में पांच हजार यात्री (Number of devotees increased for Chardham) दर्शन कर सकेंगे। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने तीर्थ यात्रियों से यात्रा से पहले अनिवार्य रूप से पंजीकरण कराने की अपील की है।

से ही लेटेस्ट व रोचक खबरें तुरंत अपने फोन पर पाने के लिए हमसे जुड़ें

हमारे व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें।

हमारे यूट्यब चैनल से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें।

हमारे टेलीग्राम ग्रुप से जुड़ने के लिए क्लिक करें।

हमारे फेसबुक ग्रुप से जुड़ने के लिए क्लिक करें।

Related Articles

- Advertisement -

Latest Articles

error: Content is protected !!