Corona Fake Testing Case : कोरोना की फर्जी जांचों के मामले में अब लाल चंदानी लैब पहुंची हाईकोर्ट, पढ़िये याचिका दायर कर उठाई यह मांग

नैनीताल। हरिद्वार कुंभ में कोरोना जांच में हुए फर्जीवाड़े का मामला बड़ा बनता जा रहा है। मामले में फर्जी जांच करने की आरोपित लैबों पर मुकदमा दर्ज होने के बाद एक-एक कर सभी लैब हाई कोर्ट का रुख करने लगी हैं। आरोपित मैक्स कॉरर्पोरेट के बाद अब लाल चंदानी लैब ने भी हाई कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। उसकी याचिका पर सुनवाई बुधवार को हो सकती है। लैब की ओर से दायर याचिका में एफआइआर निरस्त करने और गिरफ्तारी पर रोक लगाने की मांग करते हुए अदालत के आदेश पर जांच में पूरा सहयोग करने की बात कही गई है।

यह भी पढ़ें : Uttrakhand high court news : कोरोना पर उत्तराखंड सरकार के इंतजामों से हाई कोर्ट सख्त नाराज, यहां तक कह डाला

यह भी पढ़ें : Haridwar kumbh : कोविड टेस्ट फर्जीवाड़े की आरोपित फर्म पर हुआ मुकदमा तो पहुंच गई हाई कोर्ट, पढ़िये दायर याचिका में क्या कहा

सोमवार को चंदानी लैब निदेशक मंडल की ओर से दायर याचिका में कहा गया है कि लैब आईसीएमआर से मान्यता प्राप्त है। मैक्स कारपोरेट की ओर से लैब को जो काम दिया गया, उसे पूरी जिम्मेदारी के साथ पूरा किया गया। इसमें किसी तरह का फर्जीवाड़ा नहीं हुआ है। लैब के अनुसार उसका अनुबंध मैक्स से है, न कि सरकार से। उनके द्वारा जो भी आरटीपीसीआर जांच की गई, उसका पूरा रिकॉर्ड उनके पास है, लिहाजा प्राथमिकी निरस्त की जाए।

पिछले सप्ताह मुख्य चिकित्सा अधिकारी हरिद्वार ने नगर कोतवाली के मैक्स व लाल चंदानी कंपनी व नलवा लेब्रोट्रीज के के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया था। पुलिस ने आरोपितों के खिलाफ आपदा प्रबंधन एक्ट के साथ 420, 467, 468, 128 समेत अन्य धाराओं में मुकदमा दर्ज किया है। साथ ही एसआइटी का भी गठन कर दिया है।

यह भी पढ़ें : Haridwar Kumbh : कोरोना जांच के नाम पर बड़ा गोलमाल, एक ही घर से लिए गए थे 530 लोगों के सैंपल, अब होगी FIR

मैक्स कारपोरेट ने भी दाखिल की है याचिका

कोविड टेस्ट में फर्जीवाड़ा करने की आरोपी कंपनी मैक्स कारपोरेट भी हाई कोर्ट में याचिका दाखिल कर चुकी है। बीते दिनों दाखिल याचिका में उसने भी उस पर दर्ज किए गए एफआईआर को निरस्त करने करने की मांग करने के साथ ही गिरफ्तारी पर भी रोक लगाने की मांग की है।

कंपनी पर ये है आराेप

कुंभ मेला स्वास्थ्य विभाग ने जिस मैक्स कॉरपोरेट नाम की कंपनी को कोविड टेस्ट का ठेका दिया था, वह फर्जी है और सिर्फ कागजों पर ही चल रही है। जांच में न तो कंपनी का कोई ऑफिस मिला है और न ही ये पता है कि जांच किस लैब में कराई जा रही थी। मेला स्वास्थ्य अधिकारी ने भी इस मामले की जांच के लिए एक समिति गठित कर दी है। मेला स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. अर्जुन सिंह सेंगर का कहना है कि निजी लैबों के साथ सीधे एमओयू किया गया था। सिर्फ दिल्ली की लाल चंदानी लैब और हिसार की नालवा लैब के साथ थर्ड पार्टी एमओयू हुआ था। हरिद्वार के जिलाधिकारी सी. रविशंकर ने बताया कि जांच में निजी लैब के द्वारा कई स्तरों पर अनियमितता सामने आ रही है।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*